‘प्रज्ञानम्’ – नीट व जेईई की नि:शुल्क कोचिंग कक्षायें 2 अक्टुबर से प्रारम्भ

0
35

सिंथेसिस व सुशीला-केशव सेवा संस्थान द्वारा संयुक्त रूप से संचालित

बीकानेर। शिवबाड़ी सर्किल स्थित सिंथेसिस संस्थान परिसर में ”प्रज्ञानम्’ की प्रेस वार्ता रखी गई। इस वार्ता में ”प्रज्ञानम् की नि:शुल्क नीट व जेईई की कोचिंग कक्षाओं के बारे में जानकारी दी गई जो की 2 अक्टुबर से प्रारम्भ होगी। ”प्रज्ञानम्’ सिंथेसिस संस्थान व सुशीला-केशव सेवा संस्थान द्वारा संयुक्त रूप से संचालित होगी। जिसमें प्रथम 100 विद्यार्थियों को नि:शुल्क शिक्षा दी जाएगी।

इस वार्ता में डॉ. के.डी. शर्मा ने बताया की सिंथेसिस संस्थान व सुशीला-केशव सेवा संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में एक अनूठी पहल ”प्रज्ञानम्’ का षुभारम्भ गाँधी जयंती के शुभ अवसर पर होने जा रही है। जो कि आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के विद्यार्थियों हेतु पर्णतया नि:शुल्क पीएमटी (नीट) व जेईई की कोचिंग कक्षाओं की सुविधा दी जाएगी।

सिंथेसिस संस्थान के अकादमिक निदेशक डॉ. श्वेत गोस्वामी ने वार्ता बताया की ‘प्रज्ञानम्Ó के लिए सिंथेसिस संस्थान की संपूर्ण टीचिंग टीम, स्टडी मैटेरियल व टेस्ट सीरीज उपलब्ध करवाएगा तथा सुशीला केशव संस्थान अपना परिसर व अन्य सुविधाओं को उपलब्ध करवाएगा।

सिंथेसिस संस्थान के प्रबंध निदेशक मनोज कुमार बजाज ने बताया की प्रज्ञानम् में उन विद्यार्थियों को प्रवेश दिया जाएगा, जिनके परिवार की मासिक आय ?15000 प्रति माह से कम है तथा जिनके 10वीं बोर्ड परीक्षा में 60 प्रतिषत या उससे अधिक अंक है। वर्तमान में इसमें 11वीं साइंस बायोलॉजी व मैथ्स में 50 विद्यार्थियों को व 12वीं साइंस बायोलॉजी में मैथ्स में 50 विद्यार्थियों को नीट व जेईई परीक्षाओं की तैयारी करवाई जाएगी।

सिंथेसिस के प्रशासनिक निदेशक जेठमल सुथार ने बताया की कक्षाओं का समय रोजाना दोपहर 3:30 बजे से सायं 7:30 बजे तक रहेगा। ये कक्षाएं सप्ताह में 6 दिन लगेंगी तथा साप्ताहिक हर रविवार को बोर्ड पैटर्न व नीट/जेईई पैटर्न की परीक्षाएं एकांतर क्रम में होगी। इच्छुक विद्यार्थियों को आवेदन पत्र, बी-177 कांता खतूरिया कॉलोनी जो कि सुशीला-केशव सेवा संस्थान का परिसर है, पर उपलब्ध होगा। आवेदन पत्र 19 सितंबर से उपलब्ध करवाए जा रहे हैं तथा कक्षाएं 2 अक्टूबर से प्रारंभ होंगी। अधिक जानकारी के लिए 9414141038, 7073900333 सम्पर्क कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

*

code