अब प्लेटफॉर्म टिकट से लगेगा जेब को करंट

बीकानेर। परिवार के सदस्य या किसी परिचित को ट्रेन में बैठाने के लिए उत्तर पश्चिम रेल मंडल के किसी भी जंक्शन जाने वालों की जेब अब ढीली होगी। कोरोना से बचाव के लिए रेलवे ने प्लेटफॉर्म टिकट पांच गुना बढ़ाकर 50 रुपये का कर दिया है। प्लेटफॉर्म टिकट का बढ़ा शुल्क तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है। बीकानेर रेल मंडल के तहत आने वाले रेलवे स्टेशनों पर 31 मार्च तक के लिए प्लेटफॉर्म शुल्क बढ़ाया गया है। कोरोना से बचाव के मद्देनजर स्टेशनों पर भीड़ कम करने के लिए रेलवे ने मंगलवार को एनएसजी टू और थ्री स्टेशनों का प्लेटफॉर्म टिकट 10 रुपये से बढ़ाकर 50 रुपये कर दिया। मंडल रेल प्रबंधक संजय श्रीवास्तव ने बताया कि कोरोनावायरस के प्रकोप को देखते हुए रेलवे स्टेशनों पर भीड़-भाड़ को कम करने के लिए रेलवे ने प्लेटफॉर्म टिकट को 5 गुना महंगा कर दिया है। पहले यह टिकट 10 रुपये का था जो कि अब 50 रुपये में मिलेगा। रेलवे ने देशभर के 250 स्टेशनों पर एंट्री के लिए यह शुल्क बढ़ाया है।
ने कहा कि जोनल रेलवे ने प्लेटफॉर्म टिकट की कीमतों में वृद्धि करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा, ‘250 स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट की कीमतें देश के कई हिस्सों में 10 रुपये से 50 रुपये तक बढ़ाई गई हैं। वरि.मंडल वाणिज्य प्रबंधक के अनुसार उत्तर पश्चिम रेलवे ने बीकानेर,गंगानगर,हिसार,हनुमानगढ़,लालगझ़,चूरू,रत्तनगढ़,भिवानी,सादुलशहर सहित मंडल के अधीनस्थ आने वाले स्टेशनों पर यह शुल्क प्रभावी रहेगा। उन्होंने कहा कि प्लेटफ़ॉर्म टिकट की कीमतों में वृद्धि रेलवे परिसर में लोगों के अतिरिक्त भीड़ को रोकने के लिए एक अस्थायी उपाय है।